राग हिंडोल

राग हिंडोल या राग हिंदोल का जन्म कल्याण थाट से माना गया है। इसमें मध्यम तीव्र तथा निषाद व गंधार कोमल लगते हैं। रिषभ तथा पंचम वर्जित है। इसकी जाति ओड़व ओड़व है तथा वादी स्वर धैवत व संवादी स्वर गांधार है। गायन का समय प्रातःकाल है। शुद्ध निषाद, रिषभ और पंचम इस स्वर इसमें वर्ज्य हैं। तीव्र मध्यम वाला यह एक ही राग है जिसको प्रातःकाल गाया जाता है। अन्य सभी तीव्र मध्यम वाले रागों का गायन समय रात्रि में होता है। राग हिंदोल में निषाद को बहुत कम महत्व दिया गया है। इतना ही नहीं, आरोह में उसे वर्ज्य करके अवरोह में भी सां ध इन दो स्वरों के बीच में छुपाना पड़ता है क्यों कि म ध नि सा लेने से सोहनी और सां नि, ध म लेने से पूरिया राग की छाया इसमें आने लगती है। इसको सोहनी और पूरिया से बचाने के लिए मध सांध, धम गसा ध सां ऐसी पकड़ लेने से इसका स्वरूप स्पष्ट होता है। इस राग में जब सां ध ऐसे स्वर आते हैं तब सां से ध स्वर पर आते समय बीच के निषाद को धैवत में जोड़ दिया जाता है।

7 comments:

नारदमुनि

rag koi bhee ho besurana ho
kalyan ho, narayan narayan

Amit K. Sagar

ब्लोगिंग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. लिखते रहिये. दूसरों को राह दिखाते रहिये. आगे बढ़ते रहिये, अपने साथ-साथ औरों को भी आगे बढाते रहिये. शुभकामनाएं.
--
साथ ही आप मेरे ब्लोग्स पर सादर आमंत्रित हैं. धन्यवाद.

दिगम्बर नासवा

Good information for classical music lovers.

It would be better if you can put some audio also chanting "PAKAD" of the Raga

रचना गौड़ ’भारती’

संगीत से संबंधित जानकारी बहुत कम मिलती है । अच्छे प्रयास के लिए बधाई ।
मेरे शब्दों को भी देखिए और संगीत में ढालिए ।
मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।

Unknown

Shayad aur gandhar kamal???

Unknown

Nishad aur gandhar shudh lagta haii????

Unknown

Shayad aur gandhar kamal???

Blogger template 'BrownGuitar' by Ourblogtemplates.com 2008