राग यमन कल्याण : भीमसेन जोशी

कल्याण थाट का एक अत्यन्त ही मधुर राग है राग यमन कल्याण । यह राग दिन के पंचम प्रहर में गाया बजाया जाता है। अर्थात सही समय शाम के पाँच से नो बजे तक का है । इस गाने पे आधारित एक गाना है जिया ले गयो जी मेरो सांवरिया , जो की अनपढ़ फ़िल्म के लिए लता जी ने गाया है।

इस राग की सरंचना इस प्रकार से है

आरोह
न - र - ग - म - ध -नि - स'

अवरोह स'- नि - ध - प - म - ग - र - स
वादी स्वर : ग

संवादी स्वर : नि
पकड़
'न - र - ग - म - प - र - ग - र - 'न - र - स
जाती
शद्व - संपूर्ण


7 comments:

परमजीत बाली

संगीत प्रेमियो के लिए बहुत सुन्दर ब्लोग है।जानकारी के लिए आभार।

संगीता पुरी

संगीत सीखा होता , तो आज आपके ब्‍लाग की बातें जरूर समझ पाती। अफसोस ऐसा नहीं हो पाया।

Arvind Mishra

vaah vaah majaaa aa gaya !

Mired Mirage

बहुत ही मधुर !
घुघूती बासूती

Anonymous

VERY NICE, I LEARNT MUSIC VERY LITTLE BUT NOW IT WILL HELP ME TO BE PERFECT

Awinash Gajbhiye

VERY NICE, I LEARNT MUSIC VERY LITTLE BUT NOW IT WILL HELP ME TO BE PERFECT

r r dongre

VERY NICE,

Blogger template 'BrownGuitar' by Ourblogtemplates.com 2008